Namaz ke Mustahab kya Hai

Namaz ke Mustahab

Namaz ke Mustahab जिसका करना बहुत ही अच्छा माना जाता है और इसे करने वाला बहुत सवाब पायेगा यानि वह काम जिसको नमाज़ के दरमियान करने से अच्छा माना जाता है.

दोस्तों Namaz ke Mufsidat को भी जानना बहुत जरुरी है क्युकी इससे मालूम होता है नमाज़ के अन्दर वह नहीं करना चाहिए जिससे नमाज़ फासिद यानि टूट जाता है.

Namaz ke Mustahabbat को अदा करने से नमाज़ अकमल और मकबूल होगी और इसी के साथ Namaz ki Sunnat को भी पूरा करने से बहुत ज्यादा सवाब मिलता है.

नमाज़ में कितनी चीज़े मुस्तहब है

नमाज़ के हालत में वह काम जिसको करने से नमाज़ अकमल और मकबूल होता है वह काम निचे बताया जा रहा है.

  • कियाम की हालत में सजदे की जगह नजर रखना.
  • रुकू में पांव की पीठ की तरफ, सजदे में नाक की तरफ और कअदह में गोद की तरफ नजर रखना.
  • पहले सलाम दाहिने सिरहाने की तरफ और दुसरे में बाएं की तरफ नज़र रखना.
  • जमाही आये तो मुंह बंद किये रखना अगर न रुके तो होंट दांत के निचे दबाये और उससे भी न रुके तो कियाम में दाहिने हाथ की पुशत से मुंह ढँक ले और कियाम ने न हो तो बाएं हाथ की पुशत से और बिला जरुरत हाथ या कपड़े से मुंह ढंकना मकरूह है.
  • तकबीर तहरिमा के वक़्त हाथ कपड़े से बाहर निकलना.
  • औरत के लिए तकबीर तहरिमा के वक़्त हाथ कपड़े के अन्दर रखना.
  • जहाँ तक बन पड़े खांसी को रोकना.
  • कियाम की हालत में दोनों पंजो के दरमियान चार चंगुल का फासला होना.

दोस्तों Namaz ke Mustahab क्या है और क्यों करना चाहिए इससे क्या फायदा है आप सभी को मालूम चल गया होगा अगर इस जानकारी अपने फॅमिली में शेयर करेंगे तो आपको भी सवाब हासिल होगा.

हमारी इसी तरह की इस्लामिक जानकारी आप सभी अच्छा लग रहा है तो निचे कमेंट में जरुर बताये खुदा हाफिज!!

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *